The Verb कितने प्रकार की होती है ?|Verb क्या है :

The Verb

1. Verb : The Verb is a word used to express some action (कार्य), feeling (अनुभव बोध/चेतना) or existence (स्थिति / अस्तित्व). It tells us something about the subject in a sentence.

Examples:

Soni reads a book.  (action)
Ankit eats sweets.  (action)
I feel cold.  (experience)
Dasrath was a great king.  (existence)

2. English Language में Verb को दो Major classes में बाँटा गया है-

(a) Main / Principal / Full / Ordinary / Lexical Verb
(b) Auxiliary / Helping Verb.

3. Main Verbs की संख्या unlimited (असीमित) है। इनके पाँच रूप (five forms) होते हैं। इन्हें five forms के साथ निम्नलिखित प्रकार से Conjugate (क्रिया पद के रूप को दर्शाना) किया जाता है-

 

Full Verb V1 V2 V3 V4 V5
to go go went gone going goes
to eat eat ate eaten eating eats
to write write wrote written writing writes
to put put put put putting puts

4. Main Verb दो प्रकार के होते हैं-

(A) Finite Verb
(B) Non-finite/Infinite Verb

(A) Finite Verb:

A finite verb is that which is limited to the number, person and tense of its subject
A finite verb is that which changes its form according to the number, person and tense of its subject.
A finite verb is that which agrees with the number, person and tense of its subject

‘Finite’ का अर्थ होता है Limited (सीमित) यानी Finite Verb वह है जो Subject के Number (वचन) और Person (पुरुष) और Tense (काल) के अनुसार अपने को Limited या Restricted रखता है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि Finite Verb अपने Subject के Number, Person और Tense के साथ Change कर जाता है या अपने Subject के Number, Person और Tense के साथ agree करता है।

Examples :
I am a teacher.
They are players.
He is a student.
You are singers.

ऊपर दिए गए Sentences में ‘am’, is’ तथा ‘are’ finite verbs हैं, क्योंकि ये Verbs अपने Subjects के Number और Person के साथ limited हैं। दूसरी भाषा में हम कह सकते हैं कि ये Verbs अपने Subjects के Number और Person के अनुसार अपने forms को Change कर लेते हैं या अपने Subjects के Number और Person के साथ agree करते हैं।

निम्नलिखित Sentences को देखें।

He lives in Delhi.
I live in Patna.
They live in Lucknow.

ऊपर दिए गए Sentences में ‘live’ एक finite Verb है; क्योंकि यह अपने Subject के Number और Person के साथ agree करता है। इसीलिए Subject ‘he के साथ इसमें ‘S जोड़ा गया है, जबकि Subjects ‘T’ तथा ‘They’ के साथ ‘S’ नहीं जोड़ा गया है।

(B) Non-finite Verb:

A non-finite Verb is that which is not limited to the number, person and tense of its subject.
A non-finite Verb is that which does not change its form according to the number, person and tense of its subject.
A non-finite verb is that which does not agree with the number, person and tense of its subject.

‘Non-finite’ का अर्थ होता है ‘जो सीमित नहीं हो’ यानी Non-finite Verb वह है जो अपने  Subject के  Number, Person तथा Tense के साथ  Limited या  Restricted नहीं रहता हो यानी जो अपने Subject के Number, Person या Tense के अनुसार अपने Form को change नहीं करता हो या उसके साथ agree नहीं करता हो ।

निम्नलिखित Sentences को देखें :

I’want to learn English.
He’wants to learn English.
They’want to learn English.

ऊपर के Sentences में ‘want’, ‘wants’ ओर ‘want finite verbs है जबकि  to learn non-finite Verb है| to learn non-finite verb इसलिए है कियोकि यह अपने Subject के Number ओर  Person के साथ agree नहीं करता है यानी different subjects (I, He and They ) के साथ इसका same form (to learn) ही रहता है। इसे (to learn को)Infinitive कहते है |

निम्नलिखित Sentences को देखें:

I love’ a blooming flower.
He loves’ a blooming flower,
They ‘love’ a blooming flower.

upar के  Sentences में ‘love’, ‘loves’ ओर ‘love’ finite Verbs है जबकि  blooming non-finite Verb है blooming non-finite Verb इसलिए है; कियोकि यह अपने Subject के  Number ओर Person के साथ agree नहीं करता है यानि different subjects (I, He and They) के साथ इसका same form (blooming) ही रहता है | इसे (blooming को) Participle कहते हैं।

निम्नलिखित Sentences को देखें:

I ‘like’ singing.
He ‘likes’ singing.
They ‘like’ singing,

ऊपर के  Sentences में ‘like’, ‘likes’ ओर ‘like’ finite verbs है जबकि singing non-finite verb है singing non-finite verb इसलिए है कियोकि यह अपने subject के Number और Person के साथ agree नहीं करता है यानी different subjects (I, He and They) के साथ इसका same form (singing) ही रहता है। इसे (singing को) Gerund कहते हैं।

स प्रकार non-finite verbs तीन प्रकार के होते हैं जिन्हें

1. Infinitive

2. Participl

3. Gerund कहा जाता है।

5. Finite Verb को दो वर्गों (Classes) में बाँटा गया है.

(a) Transitive Verb (सकमर्क किर्या) – That which requires an object.
(b) Intransitive Verb (सकमर्क किर्या) — That which requires no object.

(a) Transitive Verb: A transitive Verb is a Verb that denotes an action which passes over from doer or subject to an object.

निम्नलिखित Sentences को देखें :

Rani sang a song                                                                                                                                                                                      He wrote a letter.
Chiku likes sweets.

ऊपर के तीनों Sentences में तीन अलग-अलग Verbs क्रमशः sang, wrote और likes का प्रयोग किया गया है। इन Verbs के द्वारा denoted action का फल (fruit of the action) केवल Subjects Rani, He और Chiku पर ही नहीं पड़ता, बल्कि अन्य शब्द song, letter और sweets पर भी पड़ता है यानी Verbs द्वारा denoted action Doer या subject को तो प्रभावित करते ही हैं साथ-ही-साथ Objects song, letter और sweets को

भी प्रभावित करते हैं, अतः sang, wrote तथा likes Transitive Verbs हुए ।

(b) Intransitive Verb:

An Intransitive Verb is a verb that denotes an action which does not pass over to an object or that does not require an object.

निम्नलिखित Sentences को देखें :
Birds fly.                                                                                                                                                                                                     Dogs bark. 
Guddu laughs.

ऊपर के तीनों Sentences में तीन अलग-अलग verbs क्रमशः laughs, bark और fly का प्रयोग किया गया है। इन Verbs के द्वारा denoted action का फल Subject से ही आरम्भ होता है और उसी Subject पर पड़कर समाप्त हो जाता है। अतः laughs, bark और fly Intransitive Verbs हुए।

6. अधिकांश Transitive Verbs के साथ केवल एक Object का प्रयोग होता है लेकिन कुछ ऐसे Transitive Verbs होते हैं जिन्हें दो Objects की आवश्यकता होती है, एक Object पर्याप्त नहीं होता है | give, ask, offer, promise, tell इत्यादि एसे अनेक Verbs है |

निम्नलिखित Examples पर ध्यान दें :

Subject Transitive Vreb Indirect Object ra
Hi gave me a book.
I asked him its price.
Sonal bought me a shirt.
She promised me her support.
The old man  told the boys a story.
The magistrate fined him fifty rupees.
Sonali offered me a cup of tea.
The hermit did them a good service.
My father sen me money.

ऊपर दिए गए Sentences से स्पष्ट है कि कुछ Transitive Verbs को दो Objects की आवश्यकता होती है, जिनमें एक कोई व्यक्ति या प्राणी सूचक Object होता है, और दूसरा Object वस्तु सूचक होता है। ऐसी अवस्था में व्यक्ति सूचक Object को Indirect Object और वस्तु सूचक Object को Direct Object कहते हैं।

7. कुछ ऐसे Verbs हैं जिनका प्रयोग Transitively और Intransitively दोनों प्रकार से होता है, जैसे-

Verbs Used Transitively           =           Verbs Used Intransitively
Boys fly kites.                                    =           Birds fly
The driver stopped the train.       =            The train stopped suddenly.
Ring the bell, Mohan.                     =            The bell rang loudly.
Karim ran a race.                             =            The horse ran fast.
He burnt his furniture.                  =            The fire burns dimly.

8. कुछ Intransitive Verbs के साथ Preposition जोड़कर उन्हें Transitive बनाया जा सकता है, जैसे-

Intransitive Verb Transitive Verb
Priya laughs. priya laughs at ( derided/uphas किया ) the beggar.
He is talking. He is talking about (discussing) the metter.
look forward. Please look into (investigate/jaach करना) the case seriously.

कभी-कभी Preposition Verb के पहले लगता है,

जैसे-
India must over come the terrorists.
The river over flew its bank.
They with drew the proposal.

9. कभी-कभी कुछ Intransitive Verbs के बाद ऐसे Objects का प्रयोग होता है जिनका अर्थ Intransitive Verbs में निहित होता है यानी Objects और Verbs के अर्थ में समानता होती है। ऐसे Objects को Cognate Objects या Cognate Accusatives कहा जाता है; जैसे-

My grandfather lived a happy life.
Ritika sang a melodious song.
Vineeta dreamt a strange dream.
I slept a sound sleep.
They have fought a good fight.

ऊपर के Sentences को पढ़ने से पता चलता है कि “a happy life’, ‘lived’ Verb का Object है | साथ-साथ यह भी पता चलता है कि ‘life’ का अर्थ कुछ-कुछ ‘lived’ Verb में निहित है। इसी प्रकार ‘song’ का अर्थ ‘sang’ verb में, ‘dream’ का अर्थ ‘dreamt’ Verb में, ‘sleep’ का अर्थ ‘slept’ Verb में तथा fight’ का अर्थ fought Ver’ में निहित है। अतः जिस Object का अर्थ उसके पूर्ववाली क्रिया (Previous Verb) में निहित है उसे  Cognate Object या Cognate Accusative कहा जाता है

10. कुछ Transitive Verbs का प्रयोग कभी-कभी Intransitive Verbs की तरह किया जाता है,

जैसे-

Transitive Intransitive
She broke the plate. The plate broke into pieces.
Chetansi burnt the toast. Ten people burnt to death.
Anshu opened the gate. The school opens at seven o’ clock.
I stopped him from over eating. I shall stop here for a week.

11. जब कोई Intransitive Verb का प्रयोग Causative Sense (प्रेरणार्थक भाव) में किया जाता है तो यह Transitive हो जाता है,

जैसे-

Intransitive Transitive
He runs fast. He runs a medicine shop.                                                                  (runs a medicine shop = causes a medicine shop to run.)
Birds fly. The boys fly their kites to fiy.                                                            (i.e. fly = cause their kites to fly.)
The horse walks. The groom walks the horse.                                                              ( i.e. walks = causes the horse to walk)
Many trees fall in the flood. Woodcutters fell trees.                                                                       (i.e. fell = causes to fall)
Sit here. Set the globe on the table.                                                                 (i.e. set = cause to sit.)

12. Verbs of Incomplete Predication :

Such Verbs which do not make complete sense by themselves are called Verbs of Incomplete Predication. They require complements to complete Verbs of Incomplete Predication. They require complements to complete their sense. They usually express the idea of being, becoming, seeming, appearing etc.

ऐसे Verbs जो अपने-आप में पूरा अर्थ (complete sense) नहीं प्रकट करते यानी जिनके object के आगे कोई शब्द देने की आवश्यकता होती है, उन्हें Verbs of Incomplete Predication कहते हैं । जो शब्द या शब्द समूह (word or group of words) object के बाद रखा जाता है उसे complement कहते हैं । Verbs of Incomplete Predication से प्रायः being, becoming, seeming, appearing (होना, लगना, प्रतीत होना ) इत्यादि का भाव व्यक्त होता है।

13. Transitive Verbs of Incomplete Predication :

निम्नलिखित Sentences को ध्यान से देखें :

Subject Transitive Object Complement Nature of the Complement
We made him captain Noun
The judge found him guilty Abjective
I saw her smiling Participle
We like the dishonest to be punished Infinitive
It trembled him with fear Preposition with object
I found them asleep Adverd
The doctor left the patient as he was Clause

अपर के Sentences में प्रयुक्त Verbs Transitive हैं। इन Sentences पर गौर करने से इसपष्ट होता है कि कुछ Transitive verbs ऐसे होते हैं जिनके आगे केवल एक Object देने से Sentence का Meaning Complete नहीं होता है, Object के आगे कोई शब्द देने की आवश्यकता होती है।

मान लिया जाय कि first sentence में केवल यही लिखा जाता— ‘We made him’. तो इसका जो अर्थ हम व्यक्त करना चाहते हैं वह पूरा नहीं होता किन्तु हिम के बाद ‘Captain लिख देने से Sentence suitable अर्थ प्रकट करता है। इस प्रकार के Complement जो Object के बाद लिखे जाते हैं Objective Complement कहलाते हैं।

Objective Complement कई रूपों (Forms) में हो सकते हैं। ऊपर के Sentences में ‘Nature of Complement पर ध्यान देने से यह स्पष्ट होता है ।

ध्यान दे:

Important Transitive Verbs of Incomplete Predication &-Appoint, Believe, Call, Create, Elect, Find, Make, Suppose, Think, Wish, Name etc.

14. Intransitive Verbs of Incomplete Predication :

निम्नलिखित Sentences को ध्यान से पढ़ें और complement के ऊपर विचार करें –

Subject Intransitive verb Complement Nature of the Complement
He is a doctor. Noun
Man is mortal. Adjective
He look tired. Participle
I am on the committee. preposition with object
The class is over. Adverb
The light is off. Adverb
You appear to have been beaten. Infinitive
Your behaviour is as a expected. Clause

ऊपर के Sentences में प्रयुक्त Verbs Intransitive हैं । इन Sentences को समझने पर स्पष्ट होता है कि कुछ Intransitive Verbs ऐसे होते हैं जिनके आगे बिना कोई दूसरा शब्द दिए Sentence का Meaning Complete नहीं होता है।

जैसे

मान लिया जाय कि first Sentence में केवल वही लिखा जाता “He is” तो इसका जो अर्थ हम व्यक्त करना चाहते हैं वह पूरा नहीं होता, किन्तु is’ के बाद ‘doctor’ लिख देने से Sentence suitable अर्थ प्रकट करता है।

इस प्रकार Intransitive Verb के आगे अर्थ को पूरा करने के लिए जो शब्द प्रयुक्त होते हैं, वे Complement to Intransitive Verb कहलाते हैं और VerbIntransitive Verb of Incomplete Predication कहलाता है। चूँकि ऐसे Complements का सम्बन्ध केवल Subject से रहता है,

अतः ये Subjective Complement कहलाते हैं। Subjective Complement या Intransitive Verb के Complementकई रूपों (Forms)में हो सकते हैं ऊपर के Sentences में Nature of the Complement पर ध्यान देने से यह स्पष्ट होता है।

ध्यान दें:

Important Intransitive Verbs of Incomplete Predication है-Be (is,are, am, was, were), Seem, Become, Look, Appear, Grow, Taste,Turn, Go etc.

आवश्यक सुझाव : विद्यार्थियों को Object और Complement में क्या भेद है भली भांति समझ लेना चाहिए।
Main Points to Remember

1. एक ही शब्द एक वाक्य में Subjective Complement और दूसरे वाक्य में Objective Complement हो सकता है | I am angry में ‘angry Subjective Complement है और  He made me angry में ‘angry’ objective complementi है

Linking and Non-linking Verbs

Linking Verb और Non-linking Verb एक विशेष प्रकार के connection या disconnection (सम्बन्ध या अलगाव) को व्यक्त करते हैं। जैसा कि इनके नाम से ही स्पष्ट है | Link शब्द का अर्थ होता है  “Connection’. To link = to connect. Linking = that which connects. Non-linking = that which does not connect.ise भली – भांति समझने के लिए नीचे दिए गए Examples को ध्यान देकर पढ़ें :

Column ‘A’ Column ‘b’
He fell ill. He felled the tree.
She sings sweetly. She sang a song.
Vijay is brave. Vijay is helping me.
They are players. They are playing cricket.

1. Column A में प्रयुक्त Verbs (fell, sings, is और are) के बाद Subjective Complement का प्रयोग हुआ है। Subjective Complement क्या है, इसे हम पहले समझ चुके हैं।
2.Column B में प्रयुक्त Verbs के बाद उनके Objects हैं।
3.Column A में प्रयुक्त Verbs का Connection केवल उनके Subjects से हैं। दूसरी में हम कह सकते हैं कि ये Verbs केवल अपने पूर्ववर्ती Subjects से ही Linked/Connected हैं या ये केवल Subjects को ही प्रभावित करते हैं । अतः ये Linking Verbs हैं
4.Column B में प्रयुक्त Verbs का Connection केवल Subjects से ही नहीं है, बल्कि Verb के बाद प्रयुक्त व्यक्ति या वस्तु से भी है। ये Verbs एक से अधिक प्रकार के व्यक्ति या वस्तु को प्रभावित करते हैं। अतः ये Non-linking Verbs हैं।

Stative and Dynamic Verbs

Modern English Grammar में वाक्य में प्रयुक्त Transitive या Intransitive Verbs को उनके अर्थ के अनुसार दो भागों में बाँटा गया है-
1.Stative Verbs और 2. Dynamic Verbs.

1.  Stative Verbs 

The verbs which denote permanent activities, a certain state or steady condition in the person or thing mentioned in the subject are called stative Verbs.

निम्नलिखित sentences पर ध्यान दें :
We hear with our ears.
He knows English.
We see with our eyes.
I believe in God.
Radha loves Krishna.
This flat consists of three rooms.

ऊपर दिए गए वाक्यों में Verbs (जिन्हें red letters में दिया गया है) से fixed, अर्थात् दृढ़, स्थिर, खास, निश्चित स्थिति (Certain state or steady condition), स्थायी कार्य-कलाप (Permanent Activity) का बोध होता है।

इस प्रकार के Verbs, Verbs in Action नहीं हैं यानी ये ऐसे Verbs हैं जो Progressive या गतिशील नहीं हो सकते हैं। यही कारण है कि इस प्रकार के Verbs का, सामान्य अर्थ, में, Progressive/Imperfect Tense नहीं होता है। ऐसे Verbs का संचालन हम अपने शरीर के अंगों या इन्द्रियों (जैसे—आँख, कान, नाक, जीभ,हृदय इत्यादि) के द्वारा प्राप्त प्रत्यक्ष ज्ञान के आधार पर करते हैं।

इसे Perception (बोध) या Cognition कहा जाता है। Perception की सहायता से ज्ञान / अनुभव प्राप्त करने के लिए कोई प्रयास/ इच्छा (Effort or Desire) नहीं की जाती। जब कोई वस्तु आँख के सामने आ जाती है, तब हम बिना प्रयास या इच्छा के भी उसे देख लेते हैं। जब कोई गायक गाता है. तब बिना प्रयास या इच्छा के भी उसकी ध्वनि सुन लेते हैं।

इस प्रकार ज्ञान /anubhav की प्राप्ति सहज, स्वाभाविक रूप से हो जाती है। ऐसे कार्यों के लिए Stative Verb का प्रयोग होता है |

2. Dynamic Verbs

The Verbs which denote a change in the person or thing mentioned in the subject are called Dynamic Verbs.
निम्नलिखित Sentences पर ध्यान दें-

Ruby writes a letter.
He is reading a novel.
Our soldiers are fighting bravely.
Gaurav is running rapidly.
She is cooking.

ऊपर दिए Sentences में Verbs (जिन्हें red letters में दिया गया है) से गतिशील /परिवर्तनात्मक कार्य-कलाप (Transitional actions) का बोध होता है। Dynamic का अर्थ होता है—गतिशील | परिवर्तनशील (Mobile/Transitional) ऐसे Verbs वास्तव में Verbs in Action हैं यानी ये Progressive या गतिशील हो सकते हैं।

इसलिए Dynamic Verbs का प्रयोग वैसे कार्य-कलाप के लिए होता है जो अस्थायी (Temporary)या क्षणिक (Momentary)या परिवर्तनशील (Transitional) होते हैं, अर्थात् जो कार्य-कलाप सदा नहीं होते। यही कारण है कि Dynamic Verbs का प्रयोग Progressive Tense में भी होता है ।

ध्यान दें : जब Stative Verbs का प्रयोग Progressive Tense में होता है, तब वे Dynamic बन जाते हैं और उनसे अस्थायी कार्य (Temporary Activities) का बोध होता है, जैसे-

We hear with our ears. = Permanent (Stative)
They are hearing me. = Temporary (Dynamic)
Lippi has a car. = Permanent (Stative)
Lippi is having a car. = Temporary (Dynamic)
Honey tastes sweet. = Permanent (Stative)
Shubham is tasting the sugar. = Temporary (Dynamic)
Dr Rakesh lives in London. = Permanent (Stative)
Dr Rakesh is living in London. = Temporary (Dynamic)

Auxiliary Verbs

1. Auxiliary or Helping Verbs are those that help the main verbs in the formation of tenses. As,

Aditi is eating rice.
They have written a letter.
Amritansh will play cricket.

ऊपर के  Sentences में ‘eat’, ‘write’ तथा ‘play’ Main Verbs है | First sentence में ‘is’, Main Verb ‘eať का Present continuous Tense के formation में सहायता करता है जबकिं Second sentence में have’ Main Verb’write’ का Present Perfect Tense के formation में तथा Third sentence में ‘will’Main Verb’play’ का Simple Future Tense के formation में सहायता करता है। इसलिए is’, ‘have’ और ‘will’
Auxiliary Verbs है |

Auxiliary Verbs दो प्रकार के होते हैं :

(a) Primary Auxiliaries
(b) Modal Auxiliaries.

(a) Primary Auxiliaries के अन्तर्गत आते हैं।
(i) Verb ‘to be  =  is, are, am, was और were
(ii) Verb ‘to do’  =  do, does और  did
(iii) Verb ‘to have’  =  have / has और  had

(b) Modal Auxiliaries के अन्तर्गत आते हैं।
can, could, may, might, shall, should, will, would, must, ought to, need,
used to और dare.

(C) Table में कुछ Auxiliaries Past form में दिए गए हैं— जैसे—should, would,
might, could ेट्स।

इससे यह समझने की भूल नहीं करनी चाहिए कि इनका प्रयोग केवल Past form में ही होता है, बल्कि इनमें से अनेक का प्रयोग Present, Past और Future के sense भी किया जाता है।
(d) be, do, have, will, need, dare का प्रयोग Auxiliary verb तथा Main verb (Ordinary verb) दोनों के रूप में किया जाता है। इसलिए Table में इनके ऊपर Star देकर दिखलाया गया है।
(e) Auxiliary Verbs का Conjugation Main verbs की तरह नहीं है यानि Auxilary verbs का V1,V2,… V5 रूप नहीं होता है।
(f) जब be, do, have, will, need तथा dare का प्रयोग Ordinary verb के रूप में किया जाता है तो इनका Conjugation इस प्रकार से होता है-

Full Verb V1 V2 V3 V4 V5
be am/are was/were been being is
do do did done doing does
have have had had having has
will will willed willed willing wills
need need needed needed needing needs
dare dare dared dared daring dares

The Use of Primary Auxiliaries

हम पहले जान चुके है Primary Auxiliaries का प्रयोग Full Verb (Main Verb) तथा Helping Verb दोनों के रूप में किया जाता है। अब नीचे दिए गए Examples को ध्यान देकर पढ़ें और समझें कि इनका (Primary Auxiliaries) प्रयोग Full Verb के रूप में किस प्रकार हुआ है-
We are students,
They are farmers.
They were laborious students.
She does her home work regularly.
I am a teacher.

उपरोक्त Sentences में red letters में दिए गए words Full Verbs हैं, न कि Helping Verbs. जब ये Verbs Tense Formation में Main Verbs की सहायता करते हैं तब ये Auxiliaries बन जाते हैं। ‘Am’, ‘Are’ तथा ‘Is’ का प्रयोग Present Continuous Tense के Formation में किया जाता है, जैसे-
I am teaching  (am-Aux. Verb, teach-Main Verb)
We are reading  (are-Aux. Verb, read-Main Verb)
He is singing.  (is-Aux. Verb, sing-Main Verb)

Was/Were

Was और Were का प्रयोग PastContinuous Tense के Formation में होता है. जैसे-
She was laughing  (was-Aux. Verb, laugh-Main Verb)
They were fighting.  (were-Aux. Verb, fight-Main Verb)

Have/Has

Have / Has का प्रयोग Present Perfect Tense के Formation में होत है, जैसे-

I have read the Ramayan.  (have-Aux. Verb, read-Main Verb)
He has helped me.  (has – Aux. Verb, help-Main Verb)

Had

Had का प्रयोग Past Perfect Tense के Formation में होता है, जैसे-
Shivam had completed his work by yesterday evening.  (had-Aux. Verb, complete-Main Verb)
The train had started before I reached the station.  (had-Aux. Verb, start-Main Verb)

Do / Does / Did

1. Present Simple Tense (Present Indefinite Tense) Negative formation के लिए Do/Does का प्रयोग किया जाता है। ‘Does’ का प्रयोग Third Person Singular Subject के साथ किया जाता है तथा शेष अन्य Subjects के साथ ‘Do’ का, जैसे-

He does not support me.  (does-Alx. Verb, support-Main Verb)
She does not read English.  (does-Aux. Verb, read-Main Verb)
I do not like spicy food.  (do- Aux. Verb, like-Main Verb)

2. Present Simple Tense के Interrogative formation के लिए Do/Does का प्रयोग होता है, जैसे-

Do they talk to you?  (do-Aux. Verb, talk- Main Verb)
Does he take tea?  (does-Aux. Verb, take-Main Verb)
Does she help you?  (does-Aux-Verb, help-Main Verb)

3.Present Simple Tense के Sentence को Emphatic (जोरदार) बनाने के लिए Do/Does का प्रयोग किया जाता है, जैसे-

I help him.  (Non-emphatic) मे उसकी सहायता करता हु|
I do help him. (Emphatic) मैं उसकी सहायता अवश्य / निश्चित करता हूँ
He feeds the poor.  (Non-emphatic)
He does feed the poor.  (Emphatic)

Leave a Comment