विलोमार्थी शब्द किसे कहाँ जाता है ?

”एक-दूसरे के विपरीत या विरोधी अर्थवाले शब्द को ही ‘विलोम’ या ‘प्रतिलोम’ या विपरीतार्थक शब्द कहा जाता है।”

जैसे-
सत्य-असत्य, अमीर-गरीब आदि । विलोमार्थी कई दृष्टियों से होता है—लिंग से, आर्थिक स्थिति के कारण, रिश्ते के कारण, आ. कार, दशा, दिशा, कार्य, भूगोल, इतिहास एवं स्वभावादि के कारण ।

नीचे लिखे उदाहरणों को देखें.

  • राजा-रंक(आर्थिक स्थिति के  कारण)
  • राजा-प्रजा(शासक-शासित के कारण)
  • राजा-रानी(लिंग के कारण)
  • पिता-पुत्र/माता(रिश्ते के कारण)
  • मोटा-पतला(आकार के कारण)
  • उत्तर-दक्षिण(दिशा में)
  • राम-रावण(स्वभाव के कारण)

नोट : एक बात का ध्यान हमेशा रखना चाहिए कि शब्द भेद की दृष्टि से दोनों विपरीतार्थक जोड़ों का एक होना चाहिए यानी यदि संज्ञा है तो उसका विलोम भी संज्ञा ही हो। इसी तरह यदि विशेषण या क्रियावाची शब्द हो तो उसका विलोमार्थी भी वही होगा। कुछ लोग इस बारीकी पर ध्यान न रखने के कारण गलतियाँ कर बैठते हैं:

अनुशासन – अनुशासनहीन

   संज्ञा              विशेषण

‘अनुशासन’ का ‘अननुशासन’ होना चाहिए न कि अनुशासनहीन ।

प्रतिलोम शब्द बनाने की निम्नलिखित विधियाँ हैं-

(क) ‘अ’/’अन्’ (उपसर्ग जोड़कर)

क्रोध -अक्रोध      खाद्य- अखाद्य

निर्देश इसी तरह निम्नलिखित शब्दों के विलोमार्थी vilom shabdशब्द बनाएँ : (बॉक्स के उपसर्गों का  प्रयोग करें)

न+  ना+    गैर+ आ+परा+ अपन निर्- वि+’ दुः+ अ+ परम

गण्य  , घोर,  छेद्य ,    जेय,   , ज्ञान , कर्मण्य,  आस्तिक, कीर्ति ,  यश ,     नित्य,  स्वीकार  ,  धर्म  ,  लायक,  प्रिय,  सामान्य,  सभ्य  ,  शुभ, मोघ,  हाजिर ,    सत्य,   इच्छा ,   अवसर ,  चल  ,दान, आवरण,    उपस्थित, एक,  स्थित,   इष्ट  ,  ऋत चल , अधिकार ,  पसंद, काविल ,  स्मरण  गति, चल,    चर ,  कर्म ,  लौकिक, समय, उदार मुनासिब ,  मामूली ,  साधारण,   उचितम, चल , पाक,    मुमकिन,  आशा , सम,

 नया विलोमार्थी शब्द:-

शब्दविलोमार्थी
आगामीगत
उत्थानपतन
आग्रहदुराग्रह
एकताअनेकता
अनुजअग्रज
आकर्षणविकर्षण
उद्यमीआलसी
अधिकन्यून
आदानप्रदान
उर्वरऊसर
एकअनेक
आलस्यस्फूर्ति
अर्थअनर्थ
नगदउधार
उपस्थितअनुपस्थित
सफलअसफल
सक्रियनिष्क्रिय
शीतऊष्ण
शयनजागरण
विधवासाधवा
विधिनिषेध
क्षणिकशाश्वत
हर्षशोक
शुष्कआर्द्र
वरदानअभिशाप
रक्षकभक्षक
रुगणस्वस्थ
मूकवाचाल
सगुणनिर्गुण
यशअपयश
ठोसतरल
बंधनमुक्ति
नूतनपुरातन
निरक्षरसाक्षर
सुलभदुर्लभ
क्रयविक्रय
कृतज्ञकृतघ्न
मोक्षबंधन
सौभाग्यदुर्भाग्य
सरसनिरस
मितव्ययअपव्यय
निंदास्तुति
घातप्रतिघात
संक्षेपविस्तार
मौखिकलिखित
सुगंधदुर्गंध
सजीवनिर्जीव
घृणाप्रेम
प्रत्यक्षअप्रत्यक्ष
परोक्षअपरोक्ष
गुप्तप्रकट
प्रसन्नताखेद
दातायाचक
आहारनिराहार
स्वाधीनपराधीन
आयव्यय
आदर्शयथार्थ
उत्तमअधम
अतिवृष्टिअनावृष्टि
उपस्थितअनुपस्थित
तेज़मंद (निस्तेज) 
धनीनिर्धन
न्यायअन्याय
डरनिडर
पंडितमुर्ख
पावनअपावन
बलवानबलहीन 
बुद्धिमानबुद्धिहीन
भूतभविष्य
महात्मादुरात्मा
खट्टामीठा
लाभहानि
अनुलोमविलोम
विजयपराजय
दानीकंजूस/ कृपाण
नवीनप्राचीन
देवदानव
जलअग्नि
आकाशपाताल
नैतिकअनैतिक
निर्माणविनाश
कच्चापक्का
भगवानहैवान/ राक्षस
बहुतथोड़ा
ज्यादाकम
परोपकारीविनाशकारी
लौकिकअलौकिक
लघुगुरु
मानवदानव
सोनाजागना
सामान्यविशेष
पुरस्कारतिरस्कार
सम्मानअपमान
आदरनिरादर
हिंसाअहिंसा
चलअचल
चरअचर
सरलकुटिल
सनाथअनाथ
रागद्वेष
मित्रताशत्रुता
जीवनमृत्यु
ज्ञानअज्ञान
ज्ञानीअज्ञानी
चालाकबुद्धू
आधारनिराधार
आस्थाअनास्था
कपटनिष्कपट
वीरकायर
अंधकारप्रकाश
अनुकूलप्रतिकूल
सक्षमअसक्षम
अवरप्रवर
अनभिज्ञभिज्ञ
पुराअधूरा
अवनतिउन्नति
अगलापिछला
आजकल
अपेक्षाउपेक्षा
दोषनिर्दोष
अमावस्यापूर्णिमा
अस्तउदय
धर्मअधर्म
अतिअल्प
अवनिअंबर
अनुरक्तविरक्त
अनिवार्यवैकल्पिक
वरदानअभिशाप
मूल्यवानअमूल्यवान/ मूल्यहीन

 

(अ, आ)

शब्दविलोमशब्दविलोम
अमृतविषअथइति
अन्धकारप्रकाशअल्पायुदीर्घायु
अनुरागविरागआदिअंत
आगामीगतआग्रहदुराग्रह
अनुजअग्रजआकर्षणविकर्षण
अधिकन्यूनआदानप्रदान
आलस्यस्फूर्तिअर्थअनर्थ
अपेक्षानगदअतिवृष्टिअनावृष्टि
आदर्शयथार्थआयव्यय
आहारनिराहारआविर्भावतिरोभाव
आमिषनिरामिषअभिज्ञअनभिज्ञ
आजादीगुलामीअनुकूलप्रतिकूल
आर्द्रशुष्कअल्पअधिक
अनिवार्यवैकल्पिकअमृतविष
अगमसुगमअभिमाननम्रता
आकाशपातालआशानिराशा
अनुग्रहविग्रहअपमानसम्मान

(इ, ई)

शब्दविलोमशब्दविलोम
इच्छाअनिच्छाइष्टअनिष्ट
ईदमुहर्रमईश्वरजीव
इच्छितअनिच्छितइहलोकपरलोक
इतिअथइसकाउसका
ईषतअलमइकट्ठाअलग

(उ, ऊ,)

शब्दविलोमशब्दविलोम
उदात्तअनुदात्तउधारनकद
उन्नतिअवनतिउदघाटनसमापन
उन्मीलननिमीलनउत्तरायणदक्षिणायन
उर्ध्वनिम्नउऋणऋण
उन्मुखविमुखउद्यमनिरुद्यम
उपस्थितअनुपस्थितउर्ध्वअधो
ऊपरनीचेउत्तीर्णअनुत्तीर्ण
उपचारअपचारउपमेयअनुपमेय
उपमाअनुपमाउपायनिरुपाय
उपयोगदुरूपयोगउत्तमअधम
उग्रसौम्यउपसर्गप्रत्यय
उर्ध्वगामीअधोगामीऊँचनीच

( ए, ऐ )

शब्दविलोमशब्दविलोम
एड़ीचोटीएेतिहासिकअनैतिहासिक
एकताअनेकताएकत्रविकर्ण
एकअनेकऐसावैसा
एकलबहुलऐहिकपारलौकिक
ऐश्वर्यअनैश्वर्यएकाग्रचंचल
ऐक्यअनैक्य

( ओ, औ )

शब्दविलोम
ओजस्वीनिस्तेज
औपचारिकअनौपचारिक
औचित्यअनौचित्य
औपन्यासिकअनौपन्यासिक

लेख के बारे में-

इस आर्टिकल में हमने “विलोमार्थी शब्द किसे कहाँ जाता है ?” के बारे में पढे। अगर इस Notes रिसर्च के बाद जानकारी उपलब्ध कराता है, इस बीच पोस्ट पब्लिश करने में अगर कोई पॉइंट छुट गया हो, स्पेल्लिंग मिस्टेक हो, या फिर आप-आप कोई अन्य प्रश्न का उत्तर ढूढ़ रहें है तो उसे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएँ अथवा हमें notesciilgrammars@gmail.com पर मेल करें।

read more 

Leave a Reply

%d bloggers like this: