उपसर्ग और प्रत्यय की परिभाषा और उनके भेद एवं उदाहरण

उपसर्ग और प्रत्यय की परिभाषा और उनके भेद एवं उदाहरण

उपसर्ग

ऐसे शब्दांश जो किसी शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं या उसके अर्थ में विशेषता लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं। या शब्द के पूर्व लगने वाले शब्दांश जो कि शब्द के अर्थ को बदल दे उपसर्ग होते हैं।

जैसे कि  अन+पढ़=अनपढ़

 उपसर्ग को निम्न भागों में विभाजित किया है –

  • संस्कृत के उपसर्ग
  • हिन्दी के उपसर्ग
  • उर्दू और फारसी के उपसर्ग
  • अंग्रेजी के उपसर्ग
  • उपसर्ग के समान प्रयुक्त होने वाले संस्कृत के अव्यय

संस्कृत के उपसर्ग:- 

उपसर्ग अर्थ शब्द
अति अधिक अत्यधिक, अत्यंत, अतिरिक्त, अतिशय
अधि ऊपर, श्रेष्ठ अधिकार, अधिपति, अधिनायक
अनु पीछे, समान अनुचर, अनुकरण, अनुसार, अनुशासन
अप बुरा, हीन अपयश, अपमान, अपकार
अभि सामने, चारों ओर, पास अभियान, अभिषेक, अभिनय,अभिमुख
अव हीन, नीच अवगुण, अवनति, अवतार, अवनति
तक, समेत आजीवन, आगमन
उत् ऊँचा, श्रेष्ठ, ऊपर उद्गम, उत्कर्ष, उत्तम, उत्पत्ति
उप निकट, सदृश, गौण उपदेश, उपवन, उपमंत्री, उपहार
दुर् बुरा, कठिन दुर्जन, दुर्गम, दुर्दशा, दुराचार
दुस् बुरा, कठिन दुश्चरित्र, दुस्साहस, दुष्कर
निर् बिना, बाहर, निषेध निरपराध, निर्जन, निराकार, निर्गुण
निस् रहित, पूरा, विपरित निस्सार, निस्तार, निश्चल, निश्चित
नि निषेध, अधिकता, नीचे निवारण, निपात, नियोग, निषेध
परा उल्टा, पीछे पराजय, पराभव, परामर्श, पराक्रम
परि आसपास, चारों तरफ परिजन, परिक्रम, परिपूर्ण, परिणाम
प्र अधिक, आगे प्रख्यात, प्रबल, प्रस्थान, प्रकृति
प्रति उलटा, सामने, हर एक प्रतिकूल, प्रत्यक्ष, प्रतिक्षण, प्रत्येक
वि भिन्न, विशेष विदेश, विलाप, वियोग, विपक्ष
सम् उत्तम, साथ, पूर्ण संस्कार, संगम, संतुष्ट, संभव
सु अच्छा, अधिक सुजन, सुगम, सुशिक्षित, सुपात्र

हिन्दी के उपसर्ग:-

उपसर्ग अर्थ शब्द
अभाव, निषेध अछूता, अथाह, अटल
अन अभाव, निषेध अनमोल, अनबन, अनपढ़
कु बुरा कुचाल, कुचैला, कुचक्र
दु कम, बुरा दुबला, दुलारा, दुधारू
नि कमी निगोड़ा, निडर, निहत्था, निकम्मा
हीन, निषेध औगुन, औघर, औसर, औसान
भर पूरा भरपेट, भरपूर, भरसक, भरमार
सु अच्छा सुडौल, सुजान, सुघड़, सुफल
अध आधा अधपका, अधकच्चा, अधमरा, अधकचरा
उन एक कम उनतीस, उनसठ, उनहत्तर, उंतालीस
पर दूसरा, बाद का परलोक, परोपकार, परसर्ग, परहित
बिन बिना, निषेध बिनब्याहा, बिनबादल, बिनपाए, बिनजाने

अरबी-फ़ारसी के उपसर्ग:-

उपसर्ग अर्थ शब्द
कम थोड़ा, हीन कमज़ोर, कमबख़्त, कमअक्ल
खुश अच्छा खुशनसीब, खुशखबरी, खुशहाल, खुशबू
गैर निषेध गैरहाज़िर, गैरक़ानूनी, गैरमुल्क, गैर-ज़िम्मेदार
ना अभाव नापसंद, नासमझ, नाराज़, नालायक
और, अनुसार बनाम, बदौलत, बदस्तूर, बगैर
बा सहित बाकायदा, बाइज्ज़त, बाअदब, बामौका
बद बुरा बदमाश, बदनाम, बदक़िस्मत,बदबू
बे बिना बेईमान, बेइज्ज़त, बेचारा, बेवकूफ़
ला रहित लापरवाह, लाचार, लावारिस, लाजवाब
सर मुख्य सरताज, सरदार, सरपंच, सरकार
हम समान, साथवाला हमदर्दी, हमराह, हमउम्र, हमदम
हर प्रत्येक हरदिन, हरसाल, हरएक, हरबार

अंग्रेज़ी के उपसर्ग:-

उपसर्ग अर्थ शब्द
सब अधीन, नीचे सब-जज सब-कमेटी, सब-इंस्पेक्टर
डिप्टी सहायक डिप्टी-कलेक्टर, डिप्टी-रजिस्ट्रार, डिप्टी-मिनिस्टर
वाइस सहायक वाइसराय, वाइस-चांसलर, वाइस-प्रेसीडेंट
जनरल प्रधान जनरल मैनेजर, जनरल सेक्रेटरी
चीफ़ प्रमुख चीफ़-मिनिस्टर, चीफ़-इंजीनियर, चीफ़-सेक्रेटरी
हेड मुख्य हेडमास्टर, हेड क्लर्क

उपसर्ग के समान प्रयुक्त होने वाले संस्कृत के अव्यय:-

उपसर्ग अर्थ शब्द
अधः नीचे अधःपतन, अधोगति, अधोमुखी, अधोलिखित
अंतः भीतरी अंतःकरण, अंतःपुर, अंतर्मन, अंतर्देशीय
अभाव अशोक ,अकाल, अनीति
चिर बहुत देर चिरंजीवी, चिरकुमार, चिरकाल, चिरायु
पुनर् फिर पुनर्जन्म, पुनर्लेखन, पुनर्जीवन
बहिर् बाहर बहिर्गमन, बहिष्कार
सत् सच्चा सज्जन, सत्कर्म, सदाचार, सत्कार्य
पुरा पुरातन पुरातत्त्व, पुरावृत्त
सम समान समकालीन, समदर्शी, समकोण, समकालिक
सह साथ सहकार, सहपाठी, सहयोगी, सहचर

प्रत्यय :-

ऐसे शब्द जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं, प्रत्यय कहलाते हैं।

प्रत्यय शब्द दो शब्दों (प्रति + अय) से मिलकर बना है। प्रति का अर्थ होता है – साथ में, पर बाद में” और अय का अर्थ है – “चलने वाला”। इसलिए प्रत्यय का अर्थ हुआ साथ में पर बाद में चलने वाला।

जिन शब्दों का स्वतंत्र अस्तित्व नहीं होता है वे किसी शब्द के पीछे लगकर उसके अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं। प्रत्यय होते हैं।

प्रत्यय के प्रकार | प्रत्यय के भेद

हिंदी में प्रत्यय के दो भेद होते हैं

(1) कृत प्रत्यय
(2) तद्धित प्रत्यय

कृत प्रत्यय:-

जो प्रत्यय क्रिया के धातु रूप के अंत में लगकर नए शब्दों का निर्माण करते हैं,कृत प्रत्यय कहलाते हैं।
कृत प्रत्यय से बने शब्द कृदंत शब्द कहलाते हैं।

तद्धित प्रत्यय:-

जो प्रत्यय संज्ञा, सर्वनाम और  विशेषण के अंत में जोड़कर नए शब्द बनाते हैं,तद्धित प्रत्यय कहलाते हैं।

तद्धित प्रत्यय से बने शब्द तद्धितांत शब्द कहलाते है।

 कृत प्रत्यय के उदाहरण 

आ प्रत्यय वाले शब्द – सोचा, पढ़ा, लिखा, पटका, मटका, झटका

आई प्रत्यय वाले शब्द – पढ़ाई, लिखाई, बुनाई, चढ़ाई

अक्कड़ प्रत्यय वाले शब्द – भुलक्कड़, घुमक्कड़, पियक्कड़

आव प्रत्यय वाले शब्द – मुटाव, बहाव, बचाव, कटाव, भराव

आकू प्रत्यय वाले शब्द – पढ़ाकू, लड़ाकू,लड़ाकू

आहट प्रत्यय वाले शब्द – मुस्कराहट, हिचकिचाहट, सनसनाहट

ई प्रत्यय वाले शब्द – हँसी, बोली, धनी, लालची

इयल प्रत्यय वाले शब्द – अड़ियल, सड़ियल, मरियल

त प्रत्यय वाले शब्द – बचत, पढ़त, खपत, लिखत

अन प्रत्यय वाले शब्द – मनन, चिंतन, ढक्कन, लटकन

आऊ प्रत्यय वाले शब्द – कमाऊ, टिकाऊ, बिकाऊ, उबाऊ

आन प्रत्यय वाले शब्द – समान, मिलान, उड़ान, लगान

आवट प्रत्यय वाले शब्द – दिखावट, बनावट, सजावट

आवा प्रत्यय वाले शब्द – दिखावा, भुलावा, बुलावा

आलु प्रत्यय वाले शब्द – कृपालु, दयालु, श्रद्धालु, झगड़ालू

इया प्रत्यय वाले शब्द – घटिया, बढ़िया, रसोइया, डिबिया

क प्रत्यय वाले शब्द – लेखक, चालक, पाठक, गायक

वाई प्रत्यय वाले शब्द – सुनवाई, कटवाई, करवाई

संस्कृत के कृत प्रत्यय के उदाहरण

अनीय प्रत्यय वाले शब्द – पूजनीय, पठनीय, गोपनीय, वंदनीय,

उक प्रत्यय वाले शब्द – चाबुक, शिक्षुक, भावुक, भिक्षुक

अना प्रत्यय वाले शब्द – रचना, भावना, सूचना, प्रार्थना, कामना

आनी प्रत्यय वाले शब्द – जेठानी, देवरानी, नौकरानी

इक प्रत्यय वाले शब्द – दैनिक, नैतिक, मौलिक, भौगोलिक, धार्मिक

ता प्रत्यय वाले शब्द – महानता, विक्रेता, श्रोता, वक्ता,

व्य प्रत्यय वाले शब्द – भव्य, कर्तव्य, श्रव्य

ईन प्रत्यय वाले शब्द – रंगीन, शौकीन, नमकीन

आस प्रत्यय वाले शब्द – एहसास, मिठास, खटास, भड़ास

तद्धित प्रत्यय के उदाहरण

आई प्रत्यय वाले शब्द – दिखाई, मिठाई, चतुराई, बुराई

इन प्रत्यय वाले शब्द – लुहारिन, सुनारिन, कहारिन

आर प्रत्यय वाले शब्द – लुहार, सुनार, कुम्हार, कहार

कार प्रत्यय वाले शब्द –  कलाकार, कथाकार, नाटककार, चित्रकार

ई प्रत्यय वाले शब्द – धनी, लालची, पहाड़ी, गरीबी, अमीरी

एरा प्रत्यय वाले शब्द – सवेरा, चचेरारा, ममेरा, फुफेरा, अँधेरा, लुटेरा

वाला प्रत्यय वाले शब्द – सब्जीवाला, रिक्शावाला, चायवाला

आना प्रत्यय वाले शब्द –  सालाना, जुर्माना, मेहनताना

इया प्रत्यय वाले शब्द – बिटिया, रसोइया, डिबिया, दुखिया, लुटिया

आहट प्रत्यय वाले शब्द –  चहचहाहट, कड़वाहट, चिकनाहट,घबराहट

दार प्र त्यय वाले शब्द – ईमानदार, लेनदार, देनदार, दुकानदार

ईला प्रत्यय वाले शब्द – चमकीला, रसीला, बर्फीला, ज़हरीला,

वाँ प्रत्यय वाले शब्द – पाँचवाँ, आठवाँ, नौवाँ, दसवाँ

हारा प्रत्यय वाले शब्द – लकड़हारा, पालनहारा, सर्वहारा

पा प्रत्यय वाले शब्द  – बुढ़ापा,मोटापा

त्व प्रत्यय वाले शब्द – गुरुत्व,लघुत्व,महत्व

संस्कृत के तद्धित प्रत्यय 

इत प्रत्यय वाले शब्द – पुष्पित, पल्लवित, शोभित, कल्पित, अंकित

ईय प्रत्यय वाले शब्द –  भारतीय, स्वर्गीय, शासकीय, वंदनीय

अक प्रत्यय वाले शब्द – रक्षक, भक्षक

अन प्रत्यय वाले शब्द –  शासन, पालन

य प्रत्यय वाले शब्द –  पूज्य, पाठ्य

मय प्रत्यय वाले शब्द –  जलमय, सुखमय

इमा प्रत्यय वाले शब्द – लालिमा, कालिमा, नीलिमा, महिमा

इल प्रत्यय वाले शब्द – धूमिल, जटिल, पंकिल

अना प्रत्यय वाले शब्द – वंदना, तुलना

मान प्रत्यय वाले शब्द – श्रीमान, बुद्धिमान

इमा प्रत्यय वाले शब्द –  महिमा, मधुरिमा

एय प्रत्यय वाले शब्द – राधेय, कौंतेय

अरबी -फ़ारसी के तद्धित प्रत्यय से बने शब्द

आना प्रत्यय वाले शब्द –  रोजाना, सालाना

गार प्रत्यय वाले शब्द – मददगार, खिदमतगार

गिरी प्रत्यय वाले शब्द – बाबूगिरी, दादागिरी

पोश प्रत्यय वाले शब्द – मेजपोश, पलंगपोश, नकाबपोश

नाक प्रत्यय वाले शब्द –  शर्मनाक, खतरनाक, दर्दनाक, खौफ़नाक

गी प्रत्यय वाले शब्द – मर्दानगी, दीवानगी, आवारगी, पेशगी

मंद प्रत्यय वाले शब्द – अक्लमंद, गरजमंद, दौलतमंद

ईन प्रत्यय वाले शब्द – नमकीन, रंगीन, बेहतरीन

दार प्रत्यय वाले शब्द – दुकानदार, शानदार

दानी प्रत्यय वाले शब्द – चूहेदानी, मच्छरदानी, सुरमेदानी

गर्दी प्रत्यय वाले शब्द – गुंडागर्दी, आवारागरी

बाज़ प्रत्यय वाले शब्द – दगाबाज़, धोखेबाज़, चालबाज़

दान प्रत्यय वाले शब्द –  पानदान, कलमदान, फूलदान,खानदान

उपसर्ग और प्रत्यय के एकसाथ से बने शब्द

उपसर्ग  +  मूल शब्द   +  प्रत्यय  =     शब्द

अ           विश्वास           ई             अविश्वासी
उप         योग               इता          उपयोगिता
अभि       मान                ई             अभिमानी
सु           शिक्षा               इत          सुशिक्षित
निर्         दया                 ई             निर्दयी
वि           ज्ञान              इक          वैज्ञानिक
सम          मान             इत          सम्मानित
अप          मान             इत           अपमानित
ला            परवाह          ई             लापरवाही
नि             डर               ता            निडरता

लेख के बारे में-

इस आर्टिकल में हमने “उपसर्ग और प्रत्यय की परिभाषा” के बारे में पढे। अगर इस Notes रिसर्च के बाद जानकारी उपलब्ध कराता है, इस बीच पोस्ट पब्लिश करने में अगर कोई पॉइंट छुट गया हो, स्पेल्लिंग मिस्टेक हो, या फिर आप-आप कोई अन्य प्रश्न का उत्तर ढूढ़ रहें है तो उसे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएँ अथवा हमें notesciilgrammars@gmail.com पर मेल करें।

 read  more

Leave a Comment